आखिर हमारे “युवा” नेताओ की भारत के बारे में क्या महत्वाकांक्षा है?

कुछ समय से मीडिया युवा नेताओ कन्हैया, हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवानी, अल्पेश ठाकोर इत्यादि को प्रमोट करता आ रहा है. कुछ तो चुनाव भी जीत गए है. भारत के टुकड़े की परिकल्पना करने वाले देशद्रोहियो को छोड़कर अन्य युवा नेताओ को मेरी शुभकामनाये.
लेकिन प्रश्न यह उठता है कि इन नेताओं की सोच क्या है? उनका हमारे राष्ट्र के बारे में क्या विज़न है? क्या उनके विचार भारत के बहुसंख्यक लोगो को प्रेरित करते है? क्या उन्होंने ऐसा कोई उच्च विचार प्रस्तुत किया जो सभी भारतीयों की भलाई और प्रगति के बारे में हो? क्या वे सभी समुदाय और महिलाओं को प्रेरित कर सकने की क्षमता रखते है? ऐसी क्या बात है कि उनके विचार आज के युवाओं और युवतियों की आगे बढ़ने की महत्वाकांक्षा को संबोधित नहीं करते?
मैं यह क्लेम तो कर ही सकता हूँ कि मैं फ्रांस के राष्ट्रपति एमानुएल माक्रों के साथ पढ़ा हूँ और उनकी जीवन-यात्रा को नज़दीक से देखा है. क्या बात थी कि 39 वर्ष की आयु में उन्हें फ्रांस की बहुसंख्यक जनता ने राष्ट्रपति चुन लिया (फ्रांस का राष्ट्रपति जनता चुनती है)? क्या विज़न था उनका? ऐसा क्या प्रोग्राम था उनका कि शहरी जनता, किसान, फैक्ट्री वर्कर, छात्र, महिलाये, सभी के वोट उन्हें मिल गए, एवं अनुभवी अधेड़ और प्रौढ़ नेतागणो को उन्होंने पछाड़ दिया?
कैंडिडेट माक्रों ने फ्रांस के सभी युवाओ को यह बतलाया कि उन्हें बेरोजगारी क्यों झेलनी पड़ रही है? माक्रों के अनुसार, अगर कोई प्राइवेट कंपनी किसी युवा को जॉब देती है, तो फ्रांस के नियमानुसार उस कर्मचारी को जॉब से नहीं निकाला जा सकता, भले ही कंपनी को घाटा हो रहा हो, या कंपनी के उत्पाद की लागत अन्य प्रतियोगियों से महँगी हो. माक्रों ने समझाया कि कैसे यह नियम नयी कंपनी और उद्यमों को फ्रांस में आने से रोकता है, कैसे यह नए लोगो को जॉब देने में असहायक सिद्ध होता है क्योकि कंपनियों को डर लगता है कि वे किसी भी कर्मचारी को नहीं निकाल पाएंगे भले ही कंपनी दिवालिया हो जाए. उन्होंने कहा कि अगर वह राष्ट्रपति बन गए तो वह नौकरी पे रखने और निकालने के नियम में ढील दे देंगे.
ध्यान दीजिये – माक्रों क्या कह रहे है? यह सिर्फ एक उदाहरण है. ऐसी बहुत सी बाते है जिसमे माक्रों ने सभी फ्रेंच नागरिको को कठिन निर्णयों के लिए आगाह किया और फ्रांस को आतंकी हमले से सुरक्षित करने का विश्वास दिलाया.
इसके विपरीत, हमारे युवा नेता सिर्फ और सिर्फ जातिवाद और आरक्षण की बात कर रहे है. उनका पूरा प्लेटफार्म ही इस बात का है कैसे “उनकी” जाति वालो को आरक्षण मिल सके, कैसे सेकुलरिज्म के स्लोगन पे भारत के बहुसंख्यक समाज का मजाक उड़ा सके, कैसे किसी एक समुदाय की तुष्टि कर सके.
दूसरे शब्दों में, उन्हें इस बात से कोई मतलब नहीं है कि वे भारत के सभी – सभी – युवाओ को कैसे रोजगार उपलब्ध कराएँगे, उसके लिए क्या कठिन निर्णय करने होंगे, कैसे प्रदूषण कम करेंगे और साथ ही उद्योगों का विकास करेंगे? कैसे किसानो को उनके उत्पाद का अधिक मूल्य देंगे, साथ ही उपभोक्ताओं को सस्ता अन्न उपलब्ध कराएँगे?
कैसे स्वच्छ और भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन देंगे? कैसे सड़के बनवाएंगे, रेलवे का विकास करेंगे, मेधा पटकर के विरोध के बावजूद सिंचाई की व्यवस्था करेंगे, और विदेशी धन पर पलने वाले एनजीओ से मुकाबला करेंगे जो भारत के विकास में आकाओ के इशारो पे बाधा डाल रहे हैं?
आरक्षण को उनके ही अभिजात वर्ग ने कब्जिया लिया है. एक ही खानदान की चौथी पीढ़ी आरक्षण का मजा ले रही है. इसमें संशोधन की आवश्यकता है, जिससे उन्ही शुद्र और पिछड़े वर्ग के वंचित लोगो को आरक्षण का लाभ पहली बार मिले. इसके बारे में उनके क्या विचार है?
कैसे सीमा पार से आने वाले आतंकवाद का मुकाबला करेंगे? कैसे जम्मू और कश्मीर, आतंकवाद, नक्सलवाद से निपटेंगे? कैसे पड़ोस के फर्जी “साम्यवादी” देश के खतरे से मुकाबला करेंगे?
अंत में, कैसे इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि राजनीति से वंशवाद को दूर किया जा सके?
क्या उन युवा नेताओ के पास कोई बोल्ड विचार है, जिससे वे सभी भारतीयों के विचारो को प्रभावित कर सके?
मुझे राष्ट्र के विकास के बारे में, उन्नति के बारे में, सभी भारतीयों की प्रगति के बारे में उनके विचार जानने की उत्सुकता है.

अमित सिंघल

मोदी का बढ़ता सामाजिक न्याय !

कांग्रेस, कम्युनिस्टों और Scheduled Caste के तथाकथित नेताओ के उद्वेलित होने का क्या कारण हो सकता है?
लोकनीति-CSDS के अनुसार, हाल ही में गुजरात में हुए चुनावों में भाजपा ने अपने Scheduled Caste वोटशेयर में लगभग 70% की वृद्धि दर्ज की है. 2012 के चनावों में इस वर्ग के 23% वोट भाजपा को मिले, जबकि 2017 में 39% Scheduled Caste वोट भाजपा को पड़े.
आप जानते है, क्यों?
क्योकि प्रधानमंत्री मोदी जी ने सब्सिडी (लागत से कम मूल्य पे सामान बेचना, जैसे कि राशन, गैस इत्यादि) और मनरेगा की मजदूरी को बिचौलिया के द्वारा देने की जगह उस सब्सिडी और मजदूरी की रकम सीधे लाभार्थी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करना शुरू कर दिया. इसके दो फायदे हुए.
पहला, भ्रष्टाचार में भरी कमी आयी.
लेकिन इससे भी बड़ा दूसरा लाभ यह हुआ कि लाभार्थी और उनका परिवार अपने आप को सशक्त महसूस करने लगा. अब उस गरीब महिला को दूकानदार, पटवारी, प्रधान इत्यादि के सामने अपने अधिकार (सब्सिडी) के लिए गिड़गिड़ाना नहीं पड़ेगा. इसके अलावा, वह अपने पसंद की वस्तु किसी भी दूकानदार से खरीद सकती है. इन सबसे बढ़कर, बैंक अकाउंट में धन देखकर उसे जो अनुभूति होती होगी, उसको बयान नहीं किया जा सकता.
पिछले वर्ष ऐसे लाभार्थियों – जिनके बैंक अकाउंट में मोदी सरकार ने सीधे सब्सिडी का ट्रांसफर किया – की संख्या 60 करोड़ पहुँच गयी. यानि की भारत की जनसँख्या का लगभग आधा भाग. (इन लाभार्थियों में से कई को एक से अधिक लाभ – जैसे की मनरेगा, अन्न, गैस, इत्यादि – मिल रहा होगा. अतः व्यक्तिगत लाभार्थियों की संख्या कम हो सकती है.)
उनको लाभ सीधे-सीधे “दिखाई” दे रहा है.
अब रहस्य समझ में आया कि भाजपा को Scheduled Caste के वोट क्यों मिल रहे है और क्यों अन्य पार्टिया बैचेन है?

अमित सिंघल

एक समाचार जो भारत में छपा नहीं

पिछले वर्ष 15 मई को हिंदुस्तान टाइम्स ने कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट की वेबसाइट का जानबूझकर – जानबूझकर – गलत विश्लेषण करते हुए लिखा कि भारत पत्रकारों के लिए तीसरा सबसे खतरनाक देश है, जबकि कमेटी की वार्षिक रिपोर्ट दिसंबर में जारी होती है.
इस वर्ष का डाटा कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट ने 21 दिसंबर को पब्लिश कर दिया है. फिर भी किसी भारतीय समाचारपत्र में इसकी खोज खबर नहीं ली गई. ऐसा क्यों?
क्योंकि कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट के अनुसार इस वर्ष भारत में तीन पत्रकारों की या तो हत्या हुई या एक खतरनाक मिशन पर कार्य करते हुए उनकी मृत्यु हो गई. इनमें से एक पत्रकार सुदीप दत्त भौमिक की त्रिपुरा की पुलिस ने नवंबर में हत्या की, जबकि दूसरे पत्रकार शांतनु भौमिक त्रिपुरा को पीपुल्स फ्रंट और सत्तारूढ़ गणमुक्ति परिषद पार्टी के सदस्यों के बीच झड़पों को कवर करते समय भीड़ ने मार दिया.
तीसरी पत्रकार गौरी लंकेश थी, जिनकी हत्या उनके घर के बाहर कर दी गई थी. कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट के अनुसार लंकेश, राज्य सरकार की तरफ से माओवादी विद्रोहियों को राज्य पुलिस के सामने सरेंडर कराने का प्रयास करवा रही थी. उनके भाई इंद्रजीत लंकेश के अनुसार गौरी लंकेश को माओवादी विद्रोहियों की तरफ से बहुत सारी धमकी भरी मेल आती थी और उन्होंने मांग की कि सीबीआई को यह जांच करनी चाहिए कि उनकी हत्या हिंदू उग्रवादियो ने की या माओवादी गैंग ने.
यही पर राज छुपा है. कैसे “वे” त्रिपुरा की सरकार के विरुद्ध लिख देंगे?
अगर लंकेश के बारे में ही लिखेंगे, तो मेरे जैसे लोग कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट की वेबसाइट का हवाला देकर लंकेश के भाई का बयान और त्रिपुरा में हुई दो हत्याओं की याद दिला देंगे.
फिर कहाँ मुंह छिपाएंगे?

अमित सिंघल

डॉ आंबेडकर और मनु स्मृति

साल 1927, अम्बेडकर साहब ने कुछ लोगों के साथ मिलकर मनुस्मृति जलाई।नब्बे साल बाद उदित राज भाजपा वाले को भी जरूरत पड़ रही है पुस्तकें जलाने की।

यूनानी नाटककार एशीलस ने सच ही कहा था कि ‘युद्ध का सबसे पहला शिकार सत्य ही बनता है।’ यह बात अंध-दुराग्रह वाले वैचारिक युद्धों पर भी लागू होती है। इनका भी सबसे पहला शिकार सत्य ही बनता है, धर्म ही बनता है। इसका शिकार बनना पड़ता है मानवीय उदारता, विनम्रता, व्यापकता और वैज्ञानिकता को।

हम विज्ञान युग की पीढ़ी हैं।ये किताबें जलाने जैसे मध्ययुगीन तरीके हमें शोभा नहीं देते. अतीत में पुस्तकालयों के ही दहन का काम नालंदा, अलेक्ज़ान्द्रिया और अल-हकम से लेकर कुस्तुनतुनिया तक में कुछ सिरफिरे लोगों ने किया था। हम ऐसा क्यों करें।दहन जो हुआ सो हुआ। अब हम थोड़ा रहन, सहन, शोधन, उन्नयन और प्रबोधन भी सीख लें।

मनु के प्रति बहुत गुस्सा है, ठीक है । हमने भावावेश में और सामाजिक-राजनीतिक संदेश देने के लिए उनके नाम से चलने वाली पुस्तक को एक बार चंदन की चिता पर रखकर जला भी डाला। चलो वह भी ठीक। लेकिन यह क्या कि हम कुत्सित दुष्प्रचार का घिनौना तेल डाल-डाल कर जब-तब उसे जलाते रहें। उस किताब पर जूती रख कर कहें कि हम नारीवादी हैं और सभ्य हैं। किसने रोका है, खराब बातों को निकाल बाहर कीजिए।चाहें तो अच्छी बातों को रख लीजिए, उन्हें जीवन में भी उतारिए। उसे और बेहतर बनाइये. चाहे जैसी भी हो, अपनी धरोहरों और अतीत की गलतियों से निपटने के लिए हम रीकंसीलिएशन, सत्यशोधन और सत्याग्रह का सहारा लेना भी सीखें।

गांधी और अंबेडकर दोनों ने ही एक से ज्यादा अवसरों पर इसे स्वीकारा था कि मनुस्मृति के नाम से प्रचलित मौजूदा किताब वास्तव में मनु के अलावा मुख्य रूप से किसी भृगु के विचारों से भरी पोथी थी, जिसमें बाद में भी कई लोगों ने जोड़-तोड़ की।

मनुस्मृति पर अपनी स्थिति और स्पष्ट करते हुए गांधीजी ने कहा था –

‘मैं मनुस्मृति को शास्त्रों का हिस्सा अवश्य मानता हूं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मैं मनुस्मृति के नाम से चल रही किसी पुस्तक में छपे हर एक श्लोक को अक्षरशः सत्य मानता हूं. छपी हुई किताब में इतने विरोधाभास भरे पड़े हैं कि यदि आप एक हिस्से को स्वीकार करें, तो आपको उन अन्य हिस्सों को अस्वीकार करना ही पड़ेगा जो उससे बिल्कुल भी मेल नहीं खाते… दरअसल आज किसी के भी पास मूल ग्रंथ की प्रति है ही नहीं.’

मनुस्मृति के नाम से प्रचलित इसकी मौजूदा प्रतियां भारुचि, मेधातिथि, गोविंदराज एवं कूल्लूक भट्ट इत्यादि द्वारा अलग-अलग समय पर (7वीं से 13वीं सदी के बीच) किए गए संकलनों और भाष्यों (कमेंटरी) पर आधारित हैं।

वैदिक शास्त्र संस्कृत में हैं और संस्कृत के सम्बन्ध में बाबा साहब अम्बेडकर अज्ञानी थे जिसे उन्होंने स्वयं स्वीकार किया है देखें –

“यदि कहा जाये कि मैं संस्कृत का विद्वान नहीं तो मैं मानने को तैयार हूँ परन्तु संस्कृत का विद्वान न होने से मैं इस विषय पर लिख क्यों नहीं सकता ?
संस्कृत का बहुत थोड़ा अंश है जो अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध नहीं है। इसलिए संस्कृत न जानना मुझे इस विषय पर न लिखने का अनाधिकारी नहीं ठहरा सकता।
अंग्रेजी अनुवादों का पंद्रह साल अध्ययन करने के बाद यह अधिकार मुझे अवश्य प्राप्त है |”

(शूद्रों की खोज, प्राक्कथन प्र.2, समता प्रकाशन नागपुर)

भीमराव के इस कथन से यह तो स्पष्ट है कि वह संस्कृत भाषा में अज्ञानी थे तथा उनका वैदिक शास्त्र सम्बन्धी ज्ञान अंग्रेजी अनुवादों पर आधारित था।

तो अब बाबा साहेब जी ने मनुस्मृति का जो अंग्रेजी अनुवाद पढ़ा वो मैक्समूलर का अनुवाद किया हुआ था, मैक्समूलर को संस्कृत का अच्छा ज्ञान था।

दुर्भाग्य से बाबासाहेब ने जो मनुस्मृति पढ़ी वो वही थी मैक्समूलर की एडिट की हुई। अर्थात मनुस्मृति का विरोध बाबासाहेब ने जानबूझकर कर नही बल्कि अंग्रेजो की साजिश में फंसकर किया।

यहाँ मैं भाषाओँ के सम्बन्ध में एक बात स्पष्ट करना चाहूँगा कि संस्कृत भाषा में 1 अरब 78 करोड़ 50 लाख शब्द हैं जबकि अंग्रेजी भाषा में मात्र 171476 शब्द हैं।

अब बुद्धजीवी यह विचार करें कि क्या संस्कृत शास्त्रों का अंग्रेजी में अनुवाद संभव है?

अगर कोई अंग्रेजी भाषा के ज्ञान के आधार पर वैदिक शास्त्रों का अर्थ करने की जिद कर बैठे तो वह अर्थ नहीं अनर्थ कहलायेगा। संस्कृत में अज्ञानी होने के बावजूद पूर्वाग्रह से ग्रसित भीमराव मनुस्मृति के श्लोकों का अनर्थ कर बैठे और अपनी इसी अज्ञानता के चलते मनुस्मृति को जलाने की मूर्खता कर बैठे। भीमराव का मनुविरोध केवल ‘विरोध के लिए विरोध’ था जिसका कोई आधार नहीं था!
उन पर तो बस मनुविरोध का भूत सवार था जो कि उन्होंने स्वयं स्वीकार किया है, देखें – “मुझ पर मनु का भूत सवार है और मुझ में इतनी शक्ति नहीं है कि मैं उसे उतार सकूं |” ( अम्बेडकर वांग्मय, खण्ड 1, प्र. 29 )

भीमराव के इस कथन से यह सिद्ध होता है कि भीमराव पर भूत सवार था और उनका मनुविरोध निराधार था!

बाबा साहब हिन्दू धर्म शास्त्रों के सम्बन्ध में अज्ञानी थे इसे उन्होंने स्वयं स्वीकार किया है!
देखें – “हिन्दू धर्म शास्त्र का मैं अधिकारी ज्ञाता नहीं” ( जातिभेद का उच्छेद, प्र. 101, बहुजन कल्याण प्रकाशन, लखनऊ )

जब महात्मा गाँधी ने डॉ. अम्बेडकर के मनुस्मृति अनुवाद पर आपत्ति जतायी तो बाबा साहब ने यह स्वयं स्वीकार किया कि मनुस्मृति के विषय पर पूर्ण अधिकार नहीं है, देखें –
“गाँधी जी की पहली आपत्ति यह है कि मैंने जो श्लोक चुने हैं वे अप्रमाणिक हैं, मैं यह मानता हूँ कि मेरा इस विषय पर पूर्ण अधिकार नहीं है” ( जातिभेद का उच्छेद, प्र. १ 120, बहुजन कल्याण प्रकाशन, लखनऊ )!

पूर्वाग्रह से ग्रसित मानसिकता के कारण बाबा साहब ने मनु के अंधविरोध को ही अपना लक्ष्य बना लिया था और इसी अंधविरोध के कारण बाबा साहब ने स्वयं ही अपनी विद्वता पर प्रश्न चिन्ह लगा लिया!

जिसका एक उदहारण मैं यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ:

बाबा साहब ने जर्मन के प्रसिद्ध दार्शनिक फ्रीडरिच नीत्से की तुलना महर्षि मनु से करते हुए कहा है कि “नीत्से की तुलना में मनु के महामानव का दर्शन अधिक नीच तथा भ्रष्ट है” ( अम्बेडकर वांग्मय, खण्ड 6, प्र. 101)

जिस नीत्से की तुलना में बाबा साहब मनु के दर्शन को नीच तथा भ्रष्ट बता रहे हैं उसी नीत्से ने मनुस्मृति के सम्बन्ध में कहा है – “CLOSE THE BIBLE AND OPEN THE CODE OF MANU” अर्थात बाइबिल को पढ़ना बंद करो और मनु के संविधान को पढ़ो ( The will to power, vol. 1, book 2nd, p. 126 )

“How wretched is the new testamant compared to manu. How faul it small !” अर्थात मनुस्मृति बाइबिल से बहुत उत्तम ग्रन्थ है | बाइबिल से तो अश्लीलता और बुराइयों की बदबू आती है ( wiyond nihilism nietzsche, without marks P41 )

नीत्से के इन कथनों से बुद्धजीवी यह अनुमान लगा सकते हैं कि बाबा साहब का मनुविरोध केवल ‘विरोध के लिए विरोध’ था जो कि पूर्णतयः निराधार था। बाबा साहब ने अपने अंधविरोध के कारण मनुस्मृति जलाकर अपनी अपनी विद्वता पर स्वयं ही प्रश्न चिन्ह लगा लिया।

भला हो बाबा साहब आपका जो आपने अपने अंग्रेजी ज्ञान के आधार पर सिक्खों की गुरुवाणी का अनुवाद नहीं किया अन्यथा आप उसे भी जला देते क्योंकि गुरुगोविन्द सिंह के दशम ग्रन्थ में एक पूरा काव्य सन्दर्भ मनु के विषय पर वर्णित है।

यहाँ कुछ विश्वप्रसिद्ध देशी विदेशी विद्वानों की सूची प्रस्तुत कर रहा हूँ जिन्होंने सार्वजनिक रूप से मनुस्मृति की महानता को स्वीकार किया है –
1.गौतम बुद्ध
2.बौद्ध महाकवि अश्वघोष
3.विश्वरूप
4.शबरस्वामी
5.विज्ञानेश्वर
6.आचार्य चाणक्य
7.राजा धारसेन ( 571 ई. )
8.शाहजहाँ का पुत्र दाराशिकोह
9.गुरु गोविन्द सिंह
10.ऋषि दयानंद
11.स्वामी विवेकानंद
12.श्री अरविन्द
13.डॉ. राधाकृष्णन
14.जवाहर लाल नेहरु
15.मोहन दास करमचंद गाँधी
16.जस्टिस डी. एन. मुल्ला
17.जस्टिस एन. राघवाचार्य
18.पाश्चात्य इतिहासकार ए. बी. कीथ
19.जर्मन दार्शनिक नीत्से
20.भारत रत्न श्री पी. वी. काणे
21.डॉ. सत्यकेतु विद्यालंकर
22.पाश्चात्य लेखक पी. थॉमस
23.रुसी विचारक पी. डी. औस्मेंसकी
24.ब्रिटिश लेखक डॉ. जी. एच. मीज
25.मैडम एनी बेसेंट
26.मैडम एच. पी. ब्लेवात्सकी
27.पुरातत्ववेत्ता गार्डन चाइल्ड
28.सर विलियम जोन्स
29.जी. सी. होग्टन
30.फ्रेंच विद्वान पार. ए. लोअसल्युर

ऐसे अनेक विश्वप्रसिद्ध विद्वानों ने मनुस्मृति की मुक्तकंठ से प्रशंसा की है तथा मनुस्मृति को जलाने की बजाय उस पर शोध किया। इस सारी दुनिया में केवल एक ही ऐसा अद्भुत विद्वान था जिसने मनुस्मृति पर शोध करने की बजाय उसे जलाने में दिलचस्पी दिखाई और उस अद्भुत विद्वान का नाम था-डॉ. भीमराव अम्बेडकर।

मधुसूदन